शुक्रवार, 15 दिसंबर 2017

श्री बृहस्‍पति देव जी की आरती || Shri Brihaspati Dev Ji Ki Aarti


जय बृहस्पति देवाॐ जय बृहस्पति देवा।
छिन छिन भोग लगाऊंकदली फल मेवा॥
ॐ जय बृहस्पति देवा ।।१।।

तुम पूरण परमात्मातुम अंतर्यामी।
जगतपिता जगदीश्वरतुम सबके स्वामी॥
ॐ जय बृहस्पति देवा।।२।।

चरणामृत निज निर्मलसब पातक हर्ता।
सकल मनोरथ दायककृपा करो भर्ता।।
ॐ जय बृहस्पति देवा।।३।।

तनमनधन अर्पण करजो जन शरण पड़े।
प्रभु प्रकट तब होकरआकर द्वार खड़े॥
ॐ जय बृहस्पति देवा।।४।।

दीनदयाल दयानिधिभक्तन हितकारी।
पाप दोष सब हर्ताभव बंधन हारी॥
ॐ जय बृहस्पति देवा।।५।।

सकल मनोरथ दायकसब संशय हारी।
विषय विकार मिटाओसंतन सुखकारी॥
ॐ जय बृहस्पति देवा।।६।।

जो कोई आरती तेरीप्रेम सहित गावे।
जेष्‍ठानंद आनंदकरसो निश्चय पावे॥
ॐ जय बृहस्पति देवा।।७।।

सब बोलो विष्णु भगवान की जय!
बोलो बृहस्पतिदेव की जय!!

0 Comments:

इस ब्लाग का निर्माण एवं सज्जा हिंमांशु पाण्डेय द्वारा की गयी है himanshu.pandey.hp@gmail.com