मंगलवार, 12 अप्रैल 2011

आरती श्री सूर्यदेव जी की Aarti Shri Surya Dev Ji Ki




जय जय जय रविदेव, जय जय जय रविदेव।
राजनीति मदहारी शतदल जीवन दाता।
षटपद मन मुदकारी हे दिनमणि ताता।
जग के हे रविदेव, जय जय जय रविदेव।
नभमंडल के वासी ज्योति प्रकाशक देवा।
निज जनहित सुखसारी तेरी हम सब सेवा।
करते हैं रवि देव, जय जय जय रविदेव।
कनक बदनमन मोहित रुचिर प्रभा प्यारी।
हे सुरवर रविदेव, जय जय जय रविदेव।।

श्री सूर्य चालीसा के लिए यहां क्लिक कीजिए
चित्र desicomments.com से साभार

0 Comments:

इस ब्लाग का निर्माण एवं सज्जा हिंमांशु पाण्डेय द्वारा की गयी है himanshu.pandey.hp@gmail.com